Breaking News

Date: 22-02-2017

एटीएम से निकले चूरन के 2000 रुपए के नोट, हैरान रह गए लोग





दिल्ली के संगम विहार इलाके स्थित स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के एक एटीएम से नकली नोट निकले हैं। खास बात यह है कि एटीएम से निकले दो-दो हजार रुपये के इन नोटों पर चिल्ड्रेन बैंक ऑफ इंडिया लिखा है। पुलिस के अनुसार इस तरह के नोट स्थानीय दुकानों में चूरन के पैकेट में मिलते हैं। इस मामले में पीड़ित रोहित ने पुलिस में मामला दर्ज करा दिया है। पुलिस ने मामला सामने आने के बाद सभी नोटों को कब्जे में लेकर उसकी जांच शुरू कर दी है। संगम विहार में रहने वाले रोहित के दोस्त विनोद यादव, जो पेशे से वकील हैं ने बताया कि रोहित ने जब उन्हें एटीएम से फोन कर घटना के बारे में बताया तो उन्हें यह मजाक लगा। वह रोहित से मिले और जब उन्होंने भी ये नोट देखे तो उनको भी समझ नहीं आया कि क्या किया जाए। 2000 के नकली नोटों के साथ एक शख्स अरेस्ट, ISI छाप रहा है जाली नोट इसके बाद उन्होंने घटना की सूचना पुलिस को दी। रोहित का कहना है कि सूचना मिलने के बाद संगम विहार थाने के कुछ पुलिसकर्मियों ने भी उसी एटीएम से जाकर पैसे निकाले और उन्हें भी यही नोट मिले। हालांकि, इस मामले में जांच पूरी होने तक कोई वरिष्ठ पुलिस अधिकारी कुछ भी कहने से बच रहा है। ऐसा पहला मामला पुलिस अधिकारी ने बताया कि एटीएम से ‘चिल्ड्रेन बैंक ऑफ इंडिया’ के नाम से छपे नोट निकलने का यह पहला मामला है। पुलिस के अनुसार रोहित द्वारा जो नोट जमा किए गए हैं उन पर चूरन लेबल लिखा है। उन्होंने बताया कि घटना सामने आने के बाद उन्हें भी लगा था कि यह मामला फर्जी है पर जब कुछ अन्य पुलिसकर्मियों को भी यही नोट मिले तो जांच शुरू की गई। यह खबर भी पढ़ें: इन 21 सुरक्षा फीचरों से लैस है 2000 का नया नोट, ऐसे पहचानें... नोट पर लिखा था 'धारक को कूपन अदा करता हूं' रोहित ने बताया कि जब एटीएम से पैसे निकले तो उन्हें भी वे असली लगे पर जब उन्होंने गांधी जी की तस्वीर के पास पढ़ा तो अजीब सा लगा। उन्होंने बताया कि गांधी जी की तस्वीर के बगल में लिखा हुआ था, ‘मैं धारक को दो हजार कूपन अदा करने का वचन देता हूं।’ ऐसे नोट पहले कभी नहीं निकले रोहित का कहना है कि घटना की सूचना उसने अपने दोस्त विनोद को देने से पहले एटीएम पर तैनात गार्ड प्रभु दयाल को दी। गार्ड को जब रोहित ने ऐसे नोट दिखाए तो उसने भी इस पर आश्चर्य जताया। उसके मुताबिक पहले कभी इस तरह के नोटएसबीआई के एटीएम से नहीं निकले। स्पेशल सेल ने शुक्रवार को इस गिरोह के दो अन्य सदस्यों को छह लाख रुपये के नकली नोट के साथ दिल्ली के सोनिया विहार से गिरफ्तार किया था। मुरादाबाद के संजीत और मुकेश ने अखरूजमा से जाली नोट लेने की बात स्वीकार की थी। उन्हीं की निशानदेही पर खान धरा गया। पुलिस ने अखुजाम के तीन मंजिला आलीशान मकान से सौ रुपए की दो गड्डी (20 हजार) जाली नोट बरामद किए। अखुजाम मूलत: यूपी के आजमगढ़ का रहने वाला है। कई राज्यों में है संपर्क अखुजाम ने बताया कि वह कई राज्यों में अपने गुर्गो की मदद से मार्केट में नोटों को चलवाता था। बदले में वह अपने गुर्गो को कमीशन भी देता था। जाली नोट की कमाई से ही उसने पटना में आलीशान मकान बनाया। उसके संपर्क में दिल्ली, यूपी, बिहार, झारखंड, बंगाल के कई बड़े अपराधी हैं जो जाली नोट आसानी से खपा देते हैं। इस गिरोह के बारे में इसी साल जनवरी में पता चला 27 जनवरी को स्पेशल सेल ने एक गिरोह से 19.22 लाख के नकली नोट बरामद किए थे। हालांकि, बरामद सभी नोट 2000 रुपये के थे। जब टीम ने आगे छानबीन की तो पता चला कि एक अन्य गिरोह 100 रुपये के नकली नोट दिल्ली-एनसीआर में खपा रहा है। नए नोट के चलन में आने के बाद से लोग 500 और दो हजार रुपये के नोटों की तो जांच करते हैं, लेकिन 100-50 रुपये के नोटों पर ध्यान नहीं देते हैं। इसका फायदा उठाकर यह गिरोह 100 रुपये के नकली नोट भारी मात्र में खपा रहा था। 17 फरवरी की तड़के फिर पुलिस इस गिरोह के दो सदस्यों को गुप्त सूचना के आधार पर सोनिया विहार से पकड़ा और फिर सरगना की तलाश में जुट गई थी। नेपाल के रास्ते लाते नोट पूछताछ में अखुजाम ने बताया कि वह नेपाल के रास्ते जाली नोट लेकर पटना पहुंचा था। देश के कई राज्यों में उसका नेटवर्क फैला है। वह अपने गुर्गो को एक करोड़ के जाली नोट देकर उनसे 30 लाख के असली नोट लेता था। देश में नोटबंदी के बाद नेपाल के कुछ लोग बॉर्डर पर सौ के जाली नोट देते थे।


Election Result